Skip to main content Skip to Navigation Screen Reader Access    Text Size : A- A A+ English हिंदी

दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र में आपका स्वागत है

दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, नागपुर भारत में बसे सात सांस्कृतिक केन्द्रो में से एक केन्द्र है जो क्षेत्रीय सांस्कृतिक धरोहर के जतन, संवर्धन, प्रचार, प्रसार हेतु नागपुर (महाराष्ट्र) में स्थापित किया गया है। केन्द्र की स्थापना सन् 1986 को नागपुर में हुई, तब से यह केन्द्र अपने मुल उद्देशो को लेकर आदिवासी लोककला, संगीत नाटक ललित एवं साहीत्य इन विधाओं में कार्यरत है । इसके अलावा भी मृतप्रायः हो रहे कला प्रकारों का जतन, शोध एवं प्रलेखन विभाग अंतर्गत छपाई तथा दृक श्राव्य माध्यम में स्तरीयता के साथ कर रहा है । केन्द्र के कार्यालयीन क्षेत्र अंतर्गत आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ सहभागी राज्य के रूप में अंतर्भुत है ।

नवीनतम समाचार

21

Sep

पेंशन योजना के संबंध में

महाराष्ट्र राज्य सरकार का संशोधित जीआर

18

Sep

स्वच्छता अभियान

18/09/2018 को मध्यदक्षिणी में

17

Sep

ई- न्यूज़ लैटर -

अप्रैल से जुलाई २०१८

26

Aug

वार्षिक कार्यक्रम कैलेंडर 2018-19

कार्यक्रमों की सुची वर्ष २०१८-१९ के लिए

24

Aug

वर्ष 2018-19 के लिए प्रस्तावित कार्यक्रम

वर्ष 2018-19 के लिए प्रस्तावित कार्यक्रम

ईवेंट और प्रदर्शनियों

25

Aug

स्वरांजली - श्रावणात घननिळा

दमक्षेसां. केंद्र, नागपूर यांची प्रस्तुती, संकल्पना - विनोद वखरे, निवेद्न- स्मिता खनगई, संगीत नियोजन- श्रिकांत पीसे

फोटो गैलरी

उदघाट्न -डॉ वसंतराव देशपांडे स्मृति संगीत समरोह
उदघाट्न -डॉ वसंतराव देशपांडे स्मृति संगीत समरोह
गोंधळ महोत्सव, माहुर
गोंधळ महोत्सव, माहुर
वरिष्ठ कलाकारों का सत्कार समारोह
वरिष्ठ कलाकारों का सत्कार समारोह
मध्यदक्षिणी, नागपुर मे उपलब्ध सुवीधाए
मध्यदक्षिणी, नागपुर मे उपलब्ध सुवीधाए
कार्यालय
कार्यालय
बोनालु नृत्य
बोनालु नृत्य

वीडियो गैलरी

Comming Soon

ऑडियो गैलरी

Comming Soon

त्वरित लिंक

निदेशक से संवाद करें

डॉ दीपक खिरवड़कर

निदेशक मध्य दक्षिणी

न्यूज़लेटर के सदस्य बने




    सदस्यता समाप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें